यही नाम मुख में हो हरदम हमारे lyrics | Yehi Naam Mukh Mein Ho Hamesha Hamare

यही नाम मुख में हो हरदम हमारे lyrics

यही नाम मुख में हो हरदम हमारे।
हरे कृष्ण गोविन्द मोहन मुरारे।
ल्या हाथ में दैत्य ने जब कि खंजर।
कहा पुत्र से कहाँ तेरा ईश्वर।
तो प्रहलाद ने याद की आह भरकर।
दिखाई पड़ा उसको खम्भे के अंदर।
है नरसिंह के रूप में राम प्यारे।
हरे कृष्ण गोविन्द मोहन मुरारे।
सरोवर में गज-ग्राह की थी लड़ाई।
न गजराज की शक्ति कुछ काम आई।
कहीं से मदद उसने जब कुछ न पाई।
दुखी हो के आवाज हरि की लगाई।
गरुड़ छोड़ नंगे ही पाँवों पधारे।
हरे कृष्ण गोविन्द मोहन मुरारे।
अजामिल अधम में न थी क्या बुराई।
मगर आपने उसकी बिगड़ी बनाई।
घड़ी मौत की सिर पै जब उसके आई।
तो बेटे नारायण की थी रट लगाई।
तुरत खुल गये उनके बैकुंठ द्वारे।
हरे कृष्ण गोविन्द मोहन मुरारे।
दुशासन जब हाथ अपने बढायें।
तो दृग ‘बिन्दु’ थे द्रौपदी ने गिराये।
न की देर कुछ द्वारिका से सिधाये।
अमित रूप ये बनके साड़ी में आये।
कि हर तार थे आपका रूप धारे।
हरे कृष्ण गोविन्द मोहन मुरारे।

इसे भी पढ़ें   मरुधर में ज्योत जगाय गयो लिरिक्स | Marudhar Me Jyot Jagay Gayo Lyrics

Yehi Naam Mukh Mein Ho Hamesha Hamare

Yehi naam mukh mein ho hamesha hamare.
Hare Krishna Govind Mohan Murare.
Lya haath mein daitya ne jab ki khanjar.
Kaha putr se kahan tera Ishwar.
To Prahlad ne yaad ki aah bharkar.
Dikhai pada usko khambhe ke andar.
Hai Narasimha ke roop mein Ram pyare.
Hare Krishna Govind Mohan Murare.
Sarovar mein gaj-grah ki thi ladai.
Na Gajraj ki shakti kuch kaam aayi.
Kahi se madad usne jab kuch na paayi.
Dukhi hokar aawaz Hari ki lagai.
Garuda chhod nange hi paon padhare.
Hare Krishna Govind Mohan Murare.
Ajaamil adham mein na thi kya burai.
Magar aapne uski bigdi banai.
Ghadi maut ki sir pe jab use aayi.
To bete Narayan ki thi rat lagai.
Turat khul gaye unke Baikunth dwar.
Hare Krishna Govind Mohan Murare.
Dushasan jab haath apne badhaye.
To Drig ‘Bindu’ the Draupadi ne giraye.
Na ki der kuch Dwarka se sidhaye.
Amit roop ye banke saadi mein aaye.
Ki har taar the aapka roop dhare.
Hare Krishna Govind Mohan Murare.

अपनों से साझा करें

Leave a Comment