वृंदावन का कृष्ण कन्हैया लिरिक्स | Vrindavan Ka Krishna Kanhaiya Lyrics

वृंदावन का कृष्ण कन्हैया लिरिक्स

वृंदावन का कृष्ण कन्हैया,
सबकी आंखों का तारा,
मन ही मन क्यों जले राधिका,
मोहन तो है प्यारा ||

यमुना तट पर नंद का लाला,
जब जब रास रचाए रै,
तन मन डोले कान्हाँ,
ऐसी वंशी मधुर बजाए रै,
सुध बुध भूली खड़ी गोपियां,
जाने कैसा जादू डाला,
वृंदावन का कृष्ण कन्हैया,
सबकी आंखों का तारा ||

रंग सलोना ऐसा जैसे,
छाई हो घटा सावन की,
ऐरी सखी मैं हुई दिवानी,
मनमोहन मनभावन की,
तेरे कारण देख साँवरे,
छोड़ दिया मैंने जग सारा,
वृंदावन का कृष्ण कन्हैया,
सबकी आंखों का तारा ||

वृंदावन का कृष्ण कन्हैया,
सबकी आंखों का तारा,
मन ही मन क्यों जले राधिका,
मोहन तो है प्यारा ||

इसे भी पढ़ें   मेरी असुवन भीगे साड़ी आ जाओ कृष्ण मुरारी भजन | Meri Ashwan Bheegi Saadi Aa Jao Krishna Murari Bhajan Lyrics

Vrindavan Ka Krishna Kanhaiya Lyrics in English

Vrindavan ka Krishna Kanhaiya,
Sabki aankhon ka taara,
Man hi man kyun jale Radhika,
Mohan to hai pyaara ||

Yamuna tat par Nand ka lala,
Jab jab raas rachaye re,
Tan man dole Kanha,
Aisi vanshi madhur bajaye re,
Sudh budh bhooli khadi gopiyan,
Jaane kaisa jaadu daala,
Vrindavan ka Krishna Kanhaiya,
Sabki aankhon ka taara ||

Rang salona aisa jaise,
Chhaayi ho ghata sawan ki,
Airii sakhi main hui deewani,
Manmohan manbhavan ki,
Tere karan dekh Saanware,
Chhod diya maine jag saara,
Vrindavan ka Krishna Kanhaiya,
Sabki aankhon ka taara ||

Vrindavan ka Krishna Kanhaiya,
Sabki aankhon ka taara,
Man hi man kyun jale Radhika,
Mohan to hai pyaara ||

इसे भी पढ़ें   झूला झूलन आ गए कन्हैया लिरिक्स | Jhula Jhulan Aa Gaye Kanhaiya Lyrics
अपनों से साझा करें

Leave a Comment