उठ करले भजन भगवान का लिरिक्स | Uth kar le bhajan Bhagwan ka Lyrics

उठ करले भजन भगवान का लिरिक्स

उठ कर ले भजन भगवान का,
तेरे जीवन का तो यही सार है
बिना बंदगी भजन भगवान के,
तेरा जीवन यूं ही बेकार है
उठ कर ले भजन भगवान का…

जन्म मिला तुझे अनमोल हीरा,
माटी में क्यों खो दिया,
जिस मार्ग से जाना तुझे था,
उसी में काँटों को बो दिया ।
यह न जाना कि झूठा संसार है,
और झूठी यह मौज बहार है,
यह दुनियां तो मेला चंद रोज़ का,
आखिर तो यहां अंधकार है ॥
उठ कर ले भजन भगवान का…

इस दुनियां की मोह ममता में,
तूने प्रभु को भुला दिया,
विषय विकारों बद कर्मों में,
जीवन सारा लुटा दिया ।
जिस नईया में तूँ सवार है,
व्ही नईया तेरी मंझधार है,
बिना भजन धर्म पतवार के,
कभी होगा न बेडा पार है ॥
उठ कर ले भजन भगवान का…

भूखा मरे कोई प्यासा मरे पर,
तुझको किसी की फ़िक्र नहीं,
सत्य अहिंसा दया धर्म का,
तेरी ज़ुबान पर ज़िक्र नहीं ।
सारी बीती उम्र यूं ही झूठ में,
बेईमानी से किया व्यपार है,

इसे भी पढ़ें   रुणिचे रा धनिया अजमल जी रा कंवरा Lyrics |Hey Runiche ra dhaniyan Lyrics

जरा मन में तूँ अपने सोच ले,
तूने कौन सा किया उपकार है ॥
उठ कर ले भजन भगवान का…

पाप करो चाहे करो भलाई,
ऐसा कभी नहीं हो सकता,
औरों को दुःख देगा तो खुद भी,
सुख से कभी नहीं सो सकता ।
जैसा बोएगा वैसा काट ले,
यही कर्मो का खुला बज़ार है,
जिन्न कर्मों के जीते जीत है,
उन कर्मों के हारे हार है ॥
उठ कर ले भजन भगवान का…

दुनियां में रहकर जीते जो मन को,
वो प्राणी सभसे बलवान है,
छोड़ दे तूँ बदीओं को नाहक,
इसमें तेरा कलियाण है ।
भव सागर से भी तर जाएगा,
गर तेरा पर्भू से सच्चा प्यार है,
जो भक्ति की आँखों से देखता,
उसे प्रीतम का होवे दीदार है ॥
उठ कर ले भजन भगवान का…

इसे भी पढ़ें   आज का ये दिन, शुभ दिन है Lyrics | Aaj Ka Ye Din Shubh Din Hai Lyrics

Uth kar le bhajan Bhagwan ka Lyrics

Uth kar le bhajan Bhagwan ka,
Tere jeevan ka to yahi saar hai.
Bina bandagi bhajan Bhagwan ke,
Tera jeevan yun hi bekaar hai.
Uth kar le bhajan Bhagwan ka…

Janm mila tujhe anmol heera,
Maati mein kyun kho diya,
Jis marg se jaana tujhe tha,
Usi mein kaanton ko bhi bo diya।
Yeh na jaana ki jhootha sansar hai,
Aur jhoothi yeh mauj bahaar hai,
Yeh duniya to mela chand roz ka,
Aakhir to yahaan andhakaar hai॥
Uth kar le bhajan Bhagwan ka…

Is duniya ki moh-maya mein,
Tune Prabhu ko bhula diya,
Vishay vikaron badh karma mein,
Jeevan saara luta diya।
Jis naiyya mein tu savar hai,
Wahi naiyya teri manjhdaar hai,
Bina bhajan dharm patvaar ke,
Kabhi hoga na beda paar hai॥
Uth kar le bhajan Bhagwan ka…

Bhookha mare koi, pyaasa mare par,
Tujhko kisi ki fikr nahi,
Satya ahimsa daya dharm ka,
Teri zubaan par zikr nahi।
Saari beeti umr yun hi jhooth mein,
Beimaani se kiya vyapaar hai,
Jara mann mein tu apne soch le,
Tune kaun sa kiya upkaar hai॥
Uth kar le bhajan Bhagwan ka…

इसे भी पढ़ें   Man Ka Deep Jala Lyrics | मन का दीप जला,

Paap karo chahe karo bhalaai,
Aisa kabhi nahi ho sakta,
Auron ko dukh dega to khud bhi,
Sukh se kabhi nahi so sakta।
Jaisa boega, waisa kaat le,
Yehi karmo ka khula bazaar hai,
Jin karmo ke jeete jeet hai,
Un karmo ke haare haar hai॥
Uth kar le bhajan Bhagwan ka…

Duniya mein rehkar jeete jo mann ko,
Woh prani sabse balwan hai,
Chhod de tu badiyon ko nakar,
Ismein tera kalyan hai।
Bhav saagar se bhi tar jaayega,
Gar tera Prabhu se saccha pyaar hai,
Jo bhakti ki aankhon se dekhta,
Use Preetam ka hove didaar hai॥
Uth kar le bhajan Bhagwan ka…

अपनों से साझा करें

Leave a Comment