उलझन में भी ओ बाबा संतोष कर रहे हैं Lyrics | Ulajhan Mein Bhi Oh Baba Santosh Kar Rahe Hain Lyrics

उलझन में भी ओ बाबा संतोष कर रहे हैं Lyrics

उलझन में भी ओ बाबा संतोष कर रहे हैं,
तेरा हाथ पीठ पर हम महसूस कर रहे हैं,
उलझन में भी ओ बाबा…

जो भी जहाँ में पाया है श्याम तेरी माया,
तू ज़िन्दगी है तू ही बंदगी है मेरी,
तू बंदगी है मेरे श्याम ……..

सुनसान ये डगर है फिर भी हमें ना डर है,
हमें ये खबर है गिरधर तू भी ना बेखबर है,
जिस और भी बढे हम बेख़ौफ़ बढ़ रहे हैं,
उलझन में भी ओ बाबा…..

हमें रोकने को आई यूँ तो हज़ार आंधी,
आई चली गई वो छू ना सकी ज़रा भी,
विपदाएं पीछे खींचे हम रोज़ बढ़ रहे हैं,
उलझन में भी ओ बाबा…..

इसे भी पढ़ें   रंग मत डाले रे सांवरिया लिरिक्स |Rang mat daale re saanwariya Lyrics

ये ना कहेंगे मुश्किल राहों में ना मिली है,
पर श्याम की कृपा ये मुश्किल से भी बड़ी है,
गोलू को ख़ुशी को पाने ग़म ये गुज़र रहे हैं,
उलझन में भी ओ बाबा…..

Ulajhan Mein Bhi Oh Baba Santosh Kar Rahe Hain Lyrics

Ulajhan mein bhi, oh baba, santosh kar rahe hain,
Tera haath peeth par hum mehsoos kar rahe hain,
Ulajhan mein bhi, oh baba…

Jo bhi jahan mein paya hai, Shyam teri maya,
Tu zindagi hai, tu hi bandgi hai meri,
Tu bandgi hai mere Shyam….

Sunsan yeh dagar hai, phir bhi humein na dar hai,
Humein yeh khabar hai, Giridhar tu bhi na bekhabar hai,
Jis aur bhi badhe hum bekhawf badh rahe hain,
Ulajhan mein bhi, oh baba…..

इसे भी पढ़ें   Sharad Poonam Ki Raat Lyrics

Humein rokne ko aayi yun to hazaar aandhi,
Aayi chali gayi vo chhoo na saki zara bhi,
Vipadaayein peeche khinche hum roz badh rahe hain,
Ulajhan mein bhi, oh baba…..

Ye na kaheinge mushkil rahon mein na mili hai,
Par Shyam ki kripa ye mushkil se bhi badi hai,
Golu ko khushi ko paane gham ye guzar rahe hain,
Ulajhan mein bhi, oh baba…..

अपनों से साझा करें

Leave a Comment