सुन भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार भजन लिरिक्स|Sun Bhakton Ki Pukar Hoke Nandi Pe Sawar lyrics

सुन भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार भजन लिरिक्स

सुन भक्तों की पुकार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर

भस्मी रमाये देखो डमरू बजाये,
कैसा निराला भोले रूप सजाये,
गले में है सर्पो का हार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर.

मृग चाल पहने है जटाओ में गंगा,
चम चम चमकता है माथे पे चंदा,
गौरी मैया के श्रृंगार होके नंदी में सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर..

देवों के देव इनकी महिमा महान है,
भोले भक्तों के ये तो भोले भगवान है,
करने भक्तों का उद्धार होके नंदी पे सवार,
काशी नगरी से आये हैं भोले शंकर

इसे भी पढ़ें   भोले ऐसी भांग पिला दे जो तन मन में रम जाए लिरिक्स | Bhole Aisi Bhang Pila De Jo Tan Man Me Ram Jaye lyrics

Sun Bhakton Ki Pukar Hoke Nandi Pe Sawar lyrics

Sun bhakton ki pukar hoke Nandi pe sawar,
Kashi nagari se aaye hain Bhole Shankar.

Bhasmi Ramaye dekho damru bajaye,
Kaisa nirala Bhole roop sajaye,
Gale mein hai sarpo ka haar hoke Nandi pe sawar,
Kashi nagari se aaye hain Bhole Shankar.

Mrig chal pahne hain jataon mein Ganga,
Cham cham chamkata hai mathe pe chanda,
Gauri Maiya ke shringar hoke Nandi mein sawar,
Kashi nagari se aaye hain Bhole Shankar.

Devon ke dev inki mahima mahaan hai,
Bhole bhakton ke ye to Bhole Bhagwan hain,
Karne bhakton ka uddhar hoke Nandi pe sawar,
Kashi nagari se aaye hain Bhole Shankar.

इसे भी पढ़ें   Lyrics डमरू वाले बाबा तुमको आना होगा | Damru Wale Baba Tumko Aana Hoga Lyrics
अपनों से साझा करें

Leave a Comment