Lyrics श्री राधा हमारी गोरी गोरी नवल किशोरी |Shri Radha Hamari Gori Gori Naval Kishori Lyrics

श्री राधा हमारी गोरी गोरी नवल किशोरी Lyrics

श्री राधा हमारी गोरी गोरी, के नवल किशोरी,
कन्हैया तेरो कारो है।
यो तो कालो नहीं है मतवारो, जगत उज्यारो,
श्री राधा जी को प्यारो है॥

श्री श्यामा किशोरी,
गोरे मुख पे तिल बनेओ, ताहि करूँ मैं प्रणाम।
मानो चन्द्र बिछाई के पौढ़े सालगराम॥

राधे तू बडभागिनी, कौन तपस्या कीन,
तीन लोक का रणतरण वो तेरे आधीन॥

कीर्ति सुता के पग पग में प्रयागराज,
केशव की केलकुंज कोटि कोटि काशी है।
यमुना में जगनाथ रेणुका में रामेश्वर,
थर थर पे पड़े रहें अयोध्या के वासी हैं।
गोपीन के द्वार द्वार हरिद्वार वसत यहाँ,
बद्री केदारनाथ फिरत दास दासी हैं।
सवर्ग अपवर्ग सुख लेकर हम करें कहाँ,
जानते नहीं हम वृन्दावन वासी हैं॥

योगी जन जान पाते है ना जिस का प्रभाव,
जिस की कला का पार शारदा न पाती है।
नारद आदि ब्रहम वादीओ ने भी न पाया तत्व,
दिव्य दिव्य शक्तियां भी नित्य गुण गातीं हैं।
शंकर समाधी में ढुंढते हैं जिसको,
श्रुतियां भी नेति नेति कह हार जातीं हैं।
वो नाना रूप धारी विष्णु मोहन मुरारी,
उस विष्व के मदारी को गोपियाँ नाचतीं हैं॥

इसे भी पढ़ें   तारा विना श्याम मने, एकलडु लागे Lyrics | Tara Vina Shyam Mane Lyrics

श्याम तन श्याम मन श्याम ही हमारो धन,
आठों याम उधो हमें श्याम ही सो काम है।
श्याम हिये श्याम जीय श्याम बिनु नहीं पिय,
अंधे की सी लाकडी आधार श्याम नाम है।
श्याम गति श्याम मति श्याम ही है प्रानपति,
श्याम सुखधाम सो भलाई आठो याम है।
उधो तुम भये भोरे पाती ले के आये दोड़े,
योग कहाँ राखें यहाँ रोम रोम श्याम है॥

गवार से राजकुमार भये,
जब भानु के द्वार लो आन लगें हैं।
बंसरी की उभरी है कला,
जब किरिती किशोरी के गाने लगें हैं।

राधिका के संग फेरे पड़े,
तब से कहना इतराने लगें हैं॥

हमरी राधा की कौन करे होड़,
सुनो रे प्यारे नन्द गईया।

राधा हमारी भोरी भारी,
यो तो छलिया माखन चोर।

देखो तेरे कनुआ की छतरी पुराणी,
वा की छतरी की कीमत करोड़।

चार टके की तेरी कारी कमरिया,
या की चुनरी की कीमत करोड़।

देखो तेरे कनुआ को मुकुट झुको है,
हमरी राधा के चरनन की और।

ब्रजमंडल के कण कण में बसी तेरी ठकुराई।
कालिंदी की लहर लहर ने, तेरी महिमा गाई॥
पुलकत हो तेरा यश गावे, श्री गोवर्धन गिरिराई।

Shri Radha Hamari Gori Gori Naval Kishori Lyrics in English

Shri Radha hamari gori gori, ke naval kishori,
Kanhaiya tero carro hai.
Yo to kalo nahi hai matwaro, jagat ujyaro,
Shri Radha Ji ko pyaro hai.

इसे भी पढ़ें   हारे के सहारे आजा तेरा दास पुकारे आजा लिरिक्स | Hare Ke Sahare Aaja Tera Das Pukare Aaja Hindi Lyrics

Shri Shyama kishori,
Gore mukh pe til baneo, tahi karun main pranam.
Mano chandra bichai ke paudhe Salagram.

Radhe tu badbhagini, kaun tapasya kin,
Teen lok ka rantaran vo tere adhin.

Kirti suta ke pag pag mein Prayagraj,
Keshav ki Kelakunj koti koti Kashi hai.
Yamuna mein Jagannath Renuka mein Rameshwar,
Thar thar pe pade rahe Ayodhya ke vaasi hain.
Gopin ke dwar dwar Haridwar vasat yahan,
Badri Kedarnath phirat dasi dasi hai.
Svarg apavarg sukh lekar hum karen kahan,
Janate nahin hum Vrindavan vaasi hain.

Yogi jan jaan paate hai na jiska prabhav,
Jis ki kala ka paar Sharada na paati hai.
Naradadi Brahma vadiyo ne bhi na paya tatva,
Divya divya shaktiyan bhi nitya gun gaati hain.
Shankar samadhi mein dhundhte hain jisko,
Shrutiyan bhi neti neti kah haar jaati hain.
Vo nana roop dhari Vishnu Mohan Murali,
Us vishwa ke madari ko gopiyan naachti hain.

इसे भी पढ़ें   Lyrics जाके सिर पे हाथ म्हारे श्याम धनी को होवे है | Jaake sir pe haath mhare Shyam dhani ko hove hai Bhajan Lyrics

Shyam tan Shyam man Shyam hi hamaro dhan,
Aatho yaam udho hamein Shyam hi so kaam hai.
Shyam hiye Shyam jiye Shyam bin nahin piye,
Andhe ki si laakdi aadhar Shyam naam hai.
Shyam gati Shyam mati Shyam hi hai pranapati,
Shyam sukhdham so bhalaai aatho yaam hai.
Udho tum bhye bhore paati le ke aaye dode,
Yog kahan rakhein yahan rom rom Shyam hai.

Gawar se Rajkumar bhaye,
Jab Bhanu ke dwar lo aan lage hain.
Bansuri ki ubhari hai kala,
Jab Kirti kishori ke gaane lage hain.

Radhika ke sang phere pade,
Tab se kehna itarane lage hain.

Hamari Radha ki kaun kare hod,
Suno re pyare Nand Gaiya.

Radha hamari bhori bhari,
Yo to chhaliya makhan chor.

Dekho tere kanua ki chatari purani,
Ya ki chatari ki keemat karod.

Char take ki teri kaari kamaraiya,
Ya ki chunari ki keemat karod.

Dekho tere kanua ko mukut jhuko hai,
Hamari Radha ke charanan ki aur.

Brajmandal ke kan kan mein basi teri Thakurayi.
Kalindi ki lehar lehar ne, teri mahima gayi.
Pulakat ho tera yash gaave, Shri Govardhan Girirai.

अपनों से साझा करें

Leave a Comment