रे मन ये दो दिन का मेला रहेगा लिरिक्स | Re Man Ye Do Din Ka Mela Rahega Lyrics

रे मन ये दो दिन का मेला रहेगा लिरिक्स

रे मन ये दो दिन का मेला रहेगा,
कायम ना जग का झमेला रहेगा।।

श्लोक प्रबल प्रेम के पाले पड़कर,
प्रभु को नियम बदलते देखा,
अपना मान टले टल जाये,
पर भक्त का मान ना टलते देखा।

रे मन ये दो दिन का मेला रहेगा,
कायम ना जग का झमेला रहेगा।।

किस काम ऊँचा जो तू,
महला बनाएगा,
किस काम का लाखो का जो,
तोड़ा कमाएगा,
रथ हाथियों का झुण्ड भी,
किस काम आएगा,
जैसा तू यहाँ आया था,
वैसा ही जाएगा,
तेरी सफर में सवारी की खातिर,
तेरी सफर में सवारी की खातिर,
कंधो पे ठठरी का ठेला रहेगा,
रे मन यें दो दिन का मेला रहेगा,
कायम ना जग का झमेला रहेगा।।

कहता है ये दौलत कभी,
आएगी मेरे काम,
पर यह तो बता धन हुआ,
किसका भला गुलाम,
समझा गए उपदेश,
हरिश्चंद्र कृष्ण राम,
दौलत तो नहीं रहती है,
रहता है सिर्फ नाम,
छूटेगी सम्पति यहाँ की यहीं पर,
छूटेगी सम्पति यहाँ की यहीं पर,
तेरी कमर में ना अधेला रहेगा,
रे मन यें दो दिन का मेला रहेगा,
कायम ना जग का झमेला रहेगा।।

इसे भी पढ़ें   Lyrics जहाँ ले चलोगे वहीं मैं चलूँगा जहां नाथ रख लोगे वहीं मैं रहूँगा | Jaha Le Chaloge Wahi Me Chalunga Lyrics

साथी है मित्र गंगा के,
जल बिंदु पान तक,
अर्धांगिनी बढ़ेगी तो,
केवल मकान तक,
परिवार के सब लोग,
चलेंगे मशान तक,
बेटा भी हक़ निभाएगा,
तो अग्निदान तक,
इसके तो आगे भजन ही है साथी,
इसके तो आगे भजन ही है साथी,
हरी के भजन बिन तू अकेला रहेगा,
रे मन यें दो दिन का मेला रहेगा,
कायम ना जग का झमेला रहेगा।।

रे मन ये दो दिन का मेला रहेगा,
कायम ना जग का झमेला रहेगा।।

Re Man Ye Do Din Ka Mela Rahega Lyrics in English

Re man ye do din ka mela rahega
Kayam na jag ka jhamela rahega

इसे भी पढ़ें   श्याम बाबा श्याम बाबा लिरिक्स | Shyam Baba Shyam Baba Tere Paas Aaya Hoon Bhajan Lyrics

Shlok prabal prem ke pale padkar
Prabhu ko niyam badalte dekha
Apna maan tale tal jaaye
Par bhakt ka maan na talte dekha

Re man ye do din ka mela rahega
Kayam na jag ka jhamela rahega

Kis kaam uncha jo tu
Mahala banayega
Kis kaam ka laakho ka jo
Toda kamaayega
Rath hathiyon ka jhund bhi
Kis kaam aayega
Jaisa tu yahan aaya tha
Vaisa hi jaayega
Teri safar mein sawaari ki khaatir
Kandho pe thathari ka thela rahega
Re man ye do din ka mela rahega
Kayam na jag ka jhamela rahega

Kehta hai ye daulat kabhi
Aayegi mere kaam
Par yeh to bata dhan hua
Kiska bhala ghulaam
Samjha gaye upadesh
Harishchandra Krishna Ram
Daulat to nahin rahti hai
Rahta hai sirf naam
Chhutegi sampati yahan ki yahi par
Teri kamar mein na adhela rahega
Re man ye do din ka mela rahega
Kayam na jag ka jhamela rahega

इसे भी पढ़ें   jeete bhi lakdi lyrics

Sathi hai mitr Ganga ke
Jal bindu paan tak
Ardhangini badhegi to
Keval makaan tak
Parivaar ke sab log
Chalenge mashaan tak
Beta bhi haq nibhayega
To agnidhan tak
Iske to aage bhajan hi hai sathi
Hari ke bhajan bin tu akela rahega
Re man ye do din ka mela rahega
Kayam na jag ka jhamela rahega

Re man ye do din ka mela rahega
Kayam na jag ka jhamela rahega

अपनों से साझा करें

Leave a Comment