रे मन मूरख कब तक जग में lyrics | Re Man Murkh Kab Tak Jag Mein Jeevan Vyarth Bitayega Lyrics

रे मन मूरख कब तक जग में lyrics

रे मन मुर्ख कब तक जग में जीवन व्यर्थ बिताये गा,
राम नाम नहीं गायेगा तो अंत समय पछतायेगा,
रे मन मुर्ख कब तक जग में जीवन व्यर्थ बिताये गा,
राजा राम राम राम राजा राम राम राम राजा राम राम,

जिस जग में तू आया है यहाँ इक मुसाफिर खाना है,
रात में रुक कर सुबह सफर कर यही से चले जाना है,
लेकिन येह भी याद रहे सांसो का पास खजाना है,
रे मन मुर्ख कब तक जग में जीवन व्यर्थ बिताये गा,

मन की वासना शूद्र जैसी भुधि नहीं निर्मल की है,
झूठी दुनिया दारी से क्या आस मोक्श के फल की है
रे मन मुर्ख कब तक जग में जीवन व्यर्थ बिताये गा,

इसे भी पढ़ें   कीर्तन भजन लिरिक्स|Kirtan Bhajan Lyrics

पौंछ गुरु के पास ज्ञान की दीपक का उजाला ले,
कंठी पहन कंठ में जप की सुमिरन की तू माला रे,
रे मन मुर्ख कब तक जग में जीवन व्यर्थ बिताये गा,

Re Man Murkh Kab Tak Jag Mein Jeevan Vyarth Bitayega Lyrics in English

Re man, murkh! Kab tak jag mein jeevan vyarth bitayega,
Ram naam nahi gayega to ant samay pachhtayega,
Re man, murkh! Kab tak jag mein jeevan vyarth bitayega,
Raja Ram Ram Ram Raja Ram Ram Ram Raja Ram Ram,

Jis jagah mein tu aaya hai yahan ik musafir khana hai,
Raat mein ruk kar subah safar kar yahi se chale jana hai,
Lekin yeh bhi yaad rahe saanso ka paas khazana hai,
Re man, murkh! Kab tak jag mein jeevan vyarth bitayega,

इसे भी पढ़ें   Lyrics जिंदगी एक किराये का घर है,एक न एक दिन बदलना पड़ेगा | Jindagi Ek Kiraye Ka Ghar Hai Ek Na Ek Din Badalna Padega Lyrics

Man ki vaasna shudra jaise bhudi nahi, nirmal ki hai,
Jhoothi duniya daari se kya aas moksh ke phal ki hai,
Re man, murkh! Kab tak jag mein jeevan vyarth bitayega,

Pahunch guru ke paas gyan ki deepak ka ujala le,
Kanthi pahan kanth mein jap ki sumiran ki tu mala re,
Re man, murkh! Kab tak jag mein jeevan vyarth bitayega.

अपनों से साझा करें

Leave a Comment