रामा रामा रटते रटते बीती रे उमरिया | Rama Rama Ratte Ratte Bhajan Lyrics

रामा रामा रटते रटते बीती रे उमरिया लिरिक्स

रामा रामा रटते रटते बीती रे उमरिया।
रघुकुल नंदन कब आओगे भिलनी की नगरिया॥

मैं शबरी भिलनी की जाई, भजन भाव ना जानु रे।
राम तेरे दर्शन के कारण वैन में जीवन पालूं रे॥
चरणकमल से निर्मल करदो दासी की झोपड़िया॥

रोज सवेरे वन में जाकर फल चुन चुन के लाऊंगी।
अपने प्रभु के सन्मुख रख के प्रेम से भोग लगाउंगी॥
मीठे मीठे बेरन की मैं भर लाई छबरिया॥

श्याम सलोनी मोहिनी मूरत नैयन बीच बसाऊंगी।
पद पंकज की रज धर मस्तक जीवन सफल बनाउंगी॥
अब क्या प्रभु जी भूल गए हो दासी की डगरिया॥

इसे भी पढ़ें   मिल जाओ राम तरस रही अखियां भजन लिरिक्स | Mil Jao Ram Taras Rahi Akhiyan Lyrics

नाथ तेरे दर्शन की प्यासी मैं अबला इक नारी हूँ।
दर्शन बिन दोऊ नैना तरसें सुनलो बहुत दुखारी हूँ॥
हीरा रूप से दर्शन देदो डालो एक नजरिया॥

Rama Rama Ratte Ratte Bhajan Lyrics in English

Rama Rama raṭṭe ratte biti re umariya.
Raghukul nandan kab aoge bhilni ki nagariyaa.

Main Shabri bhilni ki Jai, bhajan bhav na janu re.
Ram tere darshan ke karan vain mein jivan palu re.
Charankamal se nirmal kar do dasi ki jhopriya.

Roj savere van mein jakar phal chun chun ke laungi.
Apne Prabhu ke sanmukh rakh ke prem se bhog lagaungi.
Mithe mithe beran ki main bhar lai chhabariya.

इसे भी पढ़ें   Lyrics राम जी से पूछे जनकपुर की नारी | Ram Ji Se Puche Janakpur Ke Nari Lyrics

Shyam saloni mohini murat naiyan bich basaungi.
Pad pankaj ki raj dhara mastak jivan safal banaungi.
Ab kya Prabhu ji bhul gaye ho dasi ki dagariya.

Nath tere darshan ki pyasi main abla ik nari hun.
Darshan bin do naina tarasen sunlo bahut dukhari hun.
Hira rup se darshan dedo dalo ek najariya.

अपनों से साझा करें

Leave a Comment