Maa Jagdambe Tum Ho Jagat Janani Maiya Lyrics

Maa Jagdambe Tum Ho Jagat Janani Maiya Lyrics in Hindi

माँ जगदम्बे तुम हो जगत जननी मैया, मेरे भी कष्ट निवारो तो जानू
दुनिया की बिगड़ी बनाई है तुने, मेरी भी बिगड़ी सवारो तो जानू
नाश किए दैत्य देवों के कारण, मेरे भी शत्रु ले तारो तो जानू
पार किए भव सिंधु से लाखों, मुझको भी पार उतारो तो जानू
न बुद्धि न बल न भक्ति है मुझमें, यंत्र या मंत्र वा तंत्र न आए
पुत्र कपूत छमन है बहुतेरे, माता कुमाता कभी न कहलाए
मेरी ढीठाई पे ध्यान न दीजो, किसको कहूं अपना दुखड़ा सुना के
अपने ही नाम की लाज रखो वरदाती, न क्षाली फिरू न तेरे द्वार पे आके
पुत्र परम स्नेही है माता, वेदों पुराणो ने समझाया गाके
आया शरण मैं तेरी भवानी, बैठा तेरी द्वार पे धुनि राम के
तुम ही कहो छोड़ माता के द्वार को, किससे कहूं अपनी विपदा सुनाए
पुत्र परम स्नेही है माता, वेदों पुराणो ने समझाया गाके
गोदी बिठाओ या चरण लगाओ, मुझे शक्ति भक्ति का वरदान चाहिए
पातित हूँ तो क्या फिर भी बालक हूँ तेरा, कपूत को भी माता का ध्यान चाहिए
खाली फिरा न भंडारे से कोई, तो करना हमारा भी कल्याण चाहिए
जगत रूठे तो मुझको चिंता नहीं है, तुझे मैया होना मेहरबान चाहिए
तुम्हारे ही भरोसे पे जगत जननी, श्लोकों का ये अंत नादन गाए
पूत कपूत चमन है बहुतेरे माता कुमाता कभी न कहलाए

इसे भी पढ़ें   Lyrics कभी फुर्सत हो तो जगदंबे निर्धन के घर भी आ जाना | Kabhi Fursat Ho To Jagdambe Lyrics

Maa Jagdambe Tum Ho Jagat Janani Maiya Lyrics in English

Maa jagdambe tum ho jagat janani maiya Mere bhi kasht niwaro to jaanu
Duniya ki bigadi banai hai tune
Meri bhee bigadi savaro to jaanu
Naash kiye daitya devo ke karan
Mere bhi shatru le taro to jaanu
Paar kiye bhav sindhu se laakhon
Mujhko bhi paar utaro to jaanu
Na buddhi na bal na bhakti hai mujhame Yantra ya mantra va tantra na aaye
Poot kapoot chaman hai bahutere
Mata kumata kabhi na kahlaaye
Meri dheethai pe dhyan na deejo
Kisko kahun apna dukhada suna ke
Apne hi naam ki laaj rakho vardaati
Na khaali firu na tere dar pe aake
Putra param snehi hai mata
Vedo puraano ne samjhaya gake
Aaya sharan mai teri bhavaani
Baitha teri dar pe dhuni rama ke
Tum hi kaho chhod mata ke dar ko
Kisase kahu apani vipada sunaye
Poot kapoot chaman hai bahutere
Mata kumata kabhi na kahlaaye
Godi bithao ya charan lagao
Mujhe shakti bhakti ka vardan chahiye Patit hun to kya fir bhi baalak hun tera Kapoot ko bhi mata ka dhyan chahiye Khaali fira na bhandaare se koi
To karana hamara bhi kalyaan chahiye
Jagat roothe to mujhako chinta nahi hai Tujhe maiya hona mehrbaan chahiye Tumhare hi bharose pe jagat janani
Shloko ka ye ant nadan gaaye
Poot kapoot chaman hai bahutere
Mata kumata kabhi na kahlaaye

अपनों से साझा करें

Leave a Comment