कन्हैया को एक रोज रो के पुकारा Lyrics | Kanhaiya Ko Ek Roj Ro Ke Pukara Lyrics

कन्हैया को एक रोज रो के पुकारा Lyrics

कन्हैया को एक रोज रो के पुकारा, कृपा पात्र किस दिन बनूँगा तुम्हारा,

मेरे साथ होता है सरेआम तमाशा, है आंखों में आंसू और दिल मे निराशा,
कई जन्मों से राह में पलकें बिछाई, ना पूरी हुई एक भी दिल की आशा,
सुलगती भी रहती करो आग ठंडी, भटकती लहर को दिखा दो किनारा,
कृपा पात्र…..

कभी बांसुरी लेके इस तट पे आओ, कभी बनके घन मन के अंबर पे छाओ,
बुझा है मेरे मन की कुटिया का दीपक, कभी करुणा दृष्टि से इसको जलाओ,
बता दो कभी अपने श्री मुख कमल से, कहाँ खोजने जाऊ अब ओर सहारा,
कृपा पात्र…..

कुछ है जो सुंदरता पर नाज करते हैं, कुछ है जो दौलत पे नाज करते हैं,
मगर हम गुनहगार बन्दे ऐ कन्हैया, सिर्फ तेरी रहमत पे नाज करते है

कभी मेरी बिगड़ी बनाने तो आओ, कभी सोये भाग जगाने तो आओ,
कभी मन की निर्बलता को देदो शक्ति, कभी दिल का साहस बढ़ाने तो आओ,
कभी चरण अपने धुलाओ तो जानू, बहा दी है नैनों से जमुना की धारा,
कृपा पात्र….

इसे भी पढ़ें   हे रे कन्हैया किसको कहेगा तू मैया|He Re Kanhaiya Kisko Kahega Tu Maiya Lyrics

लटकते हुए बीत जाए ना जीवन, भटकते हुए बीत जाए ना जीवन
चौरासी के चक्कर में हे चक्करधारी, भटकते हुए बीत जाए ना जीवन,
सँभालो ये जीवन ए जीवन के मालिक, मेरा कुछ नहीं है आप जीते मैं हारा,
कृपा पात्र….

दुनिया वालों ने मुझे दिये है जो घाव गहरे,
मरहम का काम हो जाये गर तुम आ जाओ मिलने।

कहो ओर कब तक रिझाता रहूं मैं, बदल कर नए वेश आता रहूं मैं,
कथा वेदना की सुनते सुनाते, हरे घाव दिल के दिखाता रहूं मैं,

ना मरहम लगाओ ना हंस कर निहारो, कहो किस तरह होगा अपना गुजारा,
कृपा पात्र…

कन्हैया को एक रोज रो के पुकारा, कृपा पात्र किस दिन बनूँगा तुम्हारा,

Kanhaiya Ko Ek Roj Ro Ke Pukara Lyrics in English

Kanhaiya ko ek din ro kar pukara, kripa patra kab banunga tumhara.

इसे भी पढ़ें   खींचे खींचे रे दुशासन मेरो चीर लिरिक्स | Khinche Khinche Re Dushasan Mero Cheer Arz Suno Giridhari Lyrics

Mere saath hota hai sareaam tamasha, hai aankhon mein aansu aur dil mein nirasha. Kai janmon se raah mein palkein bichai, na poori hui ek bhi dil ki aasha. Sulagti bhi rehti karo aag thandi, bhatkti lehar ko dikha do kinara, kripa patra…

Kabhi bansuri leke is tath pe aao, kabhi banke ghan man ke ambar pe chhao. Bujha hai mere man ki kutiya ka deepak, kabhi karuna drishti se isko jalao. Bata do kabhi apne Shri mukh kamal se, kahan khojne jaaun ab aur sahara, kripa patra…

Kuch hai jo sundarta par naaz karte hain, kuch hai jo daulat par naaz karte hain. Magar hum gunahgar bande, ai Kanhaiya, sirf teri rahmat par naaz karte hain.

Kabhi meri bigdi banane to aao, kabhi soye bhag jagane to aao. Kabhi man ki nirbalta ko dedo shakti, kabhi dil ka sahas badhane to aao. Kabhi charan apne dhulao to jaanu, baha di hai naino se Yamuna ki dhara, kripa patra…

इसे भी पढ़ें   मेरी असुवन भीगे साड़ी आ जाओ कृष्ण मुरारी भजन | Meri Ashwan Bheegi Saadi Aa Jao Krishna Murari Bhajan Lyrics

Latkate hue beet jaaye na jeevan, bhatkate hue beet jaaye na jeevan. Chaurasi ke chakkar mein hey chakradhari, bhatkate hue beet jaaye na jeevan. Sambhalo ye jeevan, ae jeevan ke malik, mera kuch nahi hai, aap jeete main haara, kripa patra…

Duniya walon ne mujhe diye hain jo ghaav gehre, marham ka kaam ho jaaye agar tum aa jao milne.

Kaho aur kab tak rijhaata rahu main, badal kar naye vesha aata rahu main. Katha vedana ki sunte sunaate, hare ghaav dil ke dikhaata rahu main.

Na marham lagao na hans kar nihaaro, kaho kis tarah hoga apna guzaara, kripa patra…

Kanhaiya ko ek din ro kar pukara, kripa patra kab banunga tumhara.

अपनों से साझा करें

Leave a Comment