इंसाफ का दर है तेरा यही सोच के आता हु लिरिक्स | Insaaf Ka Dar Hai Tera Lyrics

इंसाफ का दर है तेरा यही सोच के आता हु लिरिक्स

इंसाफ का दर है तेरा यही सोच के आता हु,
हर बार तेरे दर से खाली ही जाता हु…..

आवाज लगाता हु क्यों जवाब नहीं मिलता,
दानी हो सबसे बड़े मुझको तो नहीं लगता,
शायद किस्मत में नहीं दिल को समझाता हु,
इंसाफ का दर है तेरा…..

जज्बात दिलो के प्रभु धीरे से सुनाता हु,
देखे न कही कोई हालात छुपाता हु,
सब हस्ते है मुझ पर मैं आंसू बहाता हु,
इंसाफ का दर है तेरा…..

दिनो को सताने का अंदाज़ पुराना है,
देरी से आने का बस एक बहाना है,
खाली जाने से प्रभु दिल में शर्माता हु,
इंसाफ का दर है तेरा…..

इसे भी पढ़ें   श्याम चूड़ी बेचने आया Lyrics| Shyam Chudi Bechne Aaya Lyrics

Insaaf Ka Dar Hai Tera Lyrics in English

Insaaf ka dar hai tera, yehi soch ke aata hoon,
Har baar tere dar se khali hi jaata hoon…

Awaaz lagata hoon, kyun jawab nahi milta,
Daani ho sabse bade mujhko toh nahi lagta,
Shayad kismat mein nahi, dil ko samjhata hoon,
Insaaf ka dar hai tera…

Jazbaat dilo ke prabhu dheere se sunata hoon,
Dekhe na kahi koi haalaat chhupata hoon,
Sab hasta hai mujh par, main aansu bahaata hoon,
Insaaf ka dar hai tera…

Dino ko satane ka andaaz purana hai,
Deri se aane ka bas ek bahaana hai,
Khali jaane se prabhu dil mein sharmaata hoon,
Insaaf ka dar hai tera…

इसे भी पढ़ें   श्याम मेरे श्याम मेरे बुलाना मुझे तेरे दर पे Lyrics | Shyam Mere Shyam Bulana Mujhe Tere Dar Pe
अपनों से साझा करें

Leave a Comment