Durga Chalisa Paath Vidhi | दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपको “Durga Chalisa Paath Vidhi | दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें” के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले हैं, अगर आप माता दुर्गा के उपासक हैं तो आप को इस पोस्ट में बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

दुर्गा चालीसा की रचना देवी दास जी ने की थी दुर्गा, चालीसा में मां दुर्गा के पराक्रम साहस और उनके रूप का गुणगान किया गया है संस्कृत में दुर्गा शब्द का अर्थ शक्तिशाली होता है। मां दुर्गा को दुर्गतिनाशिनी कहा जाता है इसका मतलब जो दुखों को दूर करने वाली है। 

Durga Chalisa Paath Vidhi

दुर्गा चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति को मानसिक तनाव और चिंता से मुक्ति मिलती है। शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। सभी विशेष कार्यों को करने में सफलता प्राप्त होती है। बुरी नजर बुरी शक्तियों से निजात मिलती है। आर्थिक लाभ होता है और जीवन में आने वाली दुखों से लड़ने की शक्ति मिलती है। इंसान अपना खोया हुआ सम्मान और संपत्ति भी प्राप्त कर सकता है। मन में किसी बात को लेकर कोई निराशा है तो वह भी दूर हो जाती है सभी भावनाओं पर समान रूप से नियंत्रण पाया जा सकता है। 

सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है कई घातक रोग ठीक हो जाते हैं। मनोकामना की पूर्ति के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ किया जा सकता है। 

मनोकामना पूर्ति के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें:

दुर्गा चालीसा का पाठ कोई भी कर सकता है और वैसे तो कभी भी कर सकते हो, रोज भी कर सकते हो पर किसी विशेष मनोकामना की पूर्ति के लिए आपका 11, 21,  41, 51, और 108 दिन का संकल्प लेकर पाठ करना शुभ माना जाता है। 11,  41, 51, और 108 दुर्गा चालीसा के पाठ की शुरुआत शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि,  नवमी तिथि,  प्रतिपदा तिथि से कर सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें   Shri Ganesh Chalisa Lyrics In Hindi PDF, Mp3, Video

इसके अलावा शुक्ल पक्ष के मंगलवार शुक्रवार से भी इसकी शुरुआत कर सकते हो। साल में 4 बार नवरात्रि आती है (दो गुप्त नवरात्रि और दो प्रकट नवरात्रि होती हैं. चैत्र और आश्विन माह की शारदीय नवरात्रि प्रकट नवरात्रि होती है और जबकी माघ और आषाढ़ माह में पड़ने वाली नवरात्रि गुप्त नवरात्रि होती हैं) आप नवरात्रि के 9 दिन का पाठ कर सकते हो जो की सर्वोत्तम माना गया है।

यह पाठ सुबह या शाम किसी भी समय कर सकते हैं नहा धोकर स्वच्छ वस्त्र पहन कर ही पाठ करें। लाल वस्त्र पहन सके तो बहुत अच्छा है। 

पूर्व या उत्तर दिशा की तरफ मुंह करके लाल आसन पर बैठकर पाठ करें। अपने घर के मंदिर में भी कर सकते हो या फिर अलग से लकड़ी की चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाकर उस पर मां दुर्गा की फोटो मूर्ति, शिव जी की शिवलिंग और गणेश जी की प्रतिमा को स्थापित करें। उसके लिए गणेश जी की पूजा  शुरुआत में जरूर करें।

मां दुर्गा की पूजा के साथ शिवजी की पूजा जरूर करें 

“गण गणपतए नमः” बोलते हुए दूध सिंदूर फल मिष्ठान से गणेश जी की पूजा करें मन में गणेश जी का ध्यान करते हुए 11 या 108 बार “ओम गण गणपतए नमः” का जाप करें और हाथ जोड़कर उनसे सभी विघ्नों का नाश करने की प्रार्थना करें। 

फिर भगवान शिव की पूजा करें शिवलिंग हो तो जलाभिषेक करवाएं उनका पंचाक्षरी मंत्र बोलते हुए। नहीं तो ऐसे ही उनकी प्रतिमा की धूप दीप चंदन मिष्ठान से पूजा करें। जितना आप कर सकते हैं करें बेलपत्र मिल सके तो वह भी अर्पित करें। बेलपत्र मां को भी अर्पित कर सकते हो।

इसे भी पढ़ें   सावन में शिव चालीसा का महत्व । Importance of Shiv Chalisa in Sawan

मां की कृपा प्राप्ति के लिए प्रार्थना करें मां दुर्गा की पूजा करें। एक पात्र में जल भरकर माता को दो साबुत लॉन्ग दो इलायची, मिठाई ले सकते हैं तो ले लो नहीं तो मिश्री का भोग लगा सकते हो और उन्हें स्वीकार करने के लिए प्रार्थना करें। 

अपने सामर्थ्य के अनुसार आप जितना करना चाहो कर सकते हो। दुर्गा चालीसा की पुस्तक पर तिलक लगाकर ध्यान करके 11 बार ” दुर्गाय नमः” बोले और फिर पाठ करना शुरू करें। 

पाठ के बाद हाथ में जल लेकर मां को अर्पित करें और बोले दुख हरनी मैंने जो आज आपकी चालीसा के पाठ किए हैं यह मैं आपको अर्पित कर रहा हूं या कर रही हूं मां मैं नासमझ हूं मुझे कुछ नहीं आता मैंने अपने भावों के माध्यम से आप की चालीसा का पाठ किया है कृपया इसे स्वीकार करें हमसे कोई गलती हो गई हो तो क्षमा करें और मां का आशीर्वाद आप पर बना रहे उसके लिए प्रार्थना करें। 

फिर आपको रोज ऐसे ही बनाये रखना है वह करें जितना कर सकती है गरीबों को भी प्रसाद जरूर दें। नवरात्रि के 9 दिन रोज 108 बार पाठ करें और नौवें दिन हवन करें। कन्या भोजन करवाएं, माना जाता है कि इससे हमारी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। उसके बाद रोज एक बार पाठ जरूर करें 

संकल्प: 

अपना नाम और गोत्र बोलते हुए हाथ में जल लेकर इस तरह से संकल्प ले लेना है, मैं आपके चालीसा के पाठ कोशिश करने का कार्य कर रही हूं या कर रहा हूं इसमें मुझे सफलता प्रदान करें और मेरे द्वारा किए गए कार्य में किसी भी प्रकार की कोई गलती हो जाए तो मुझे क्षमा करें ऐसे कहते हुए छोड़ दे।

नवरात्रि के दिनों में अगर इतना ना कर सके तो मनोकामना की पूर्ति के लिए 11 या 1 बार भी रोज कर सकते हो। पाठ के समय अपना ध्यान माता में लगाएं और शांत जगह पर बैठकर पाठ करें सामर्थ्य के अनुसार जितना कर सकते हैं पर पूरी श्रद्धा भाव से करें स्वच्छता का ध्यान रखें मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। अपने भी तिलक जरूर लगाएं फिर पाठ करना शुरू करें। 

इसे भी पढ़ें   [Free PDF] Shri Durga Chalisa lyrics in Hindi | श्री दुर्गा चालीसा साधना

पाठ के बाद पहले आसन के नीचे एक बूंद जल गिरा कर अपने माथे से जरूर लगाएं इससे पाठ का पूरा फल मिलता है। पाठ के अंत में अपनी गलतियों और पूजा पाठ में हुई भूल चूक के लिए क्षमा याचना जरूर करें। छल कपट कलह कलेस से दूर रहें पाठ के बाद मां की आरती करें, परिक्रमा करें। 

कोई भी पाठ शुरू करें कभी भी किसी को इसके बारे में न बताएं अपनी पूजा पाठ को हमें गुप्त रखना चाहिए नहीं तो पूजा पाठ का फल नहीं मिलता होता है। 

माता का कोई स्वपन किसी को आता है माता के दर्शन होते हैं तो इसके बारे में किसी को ना बताएं अपने मन में ही रख के पाठ में एक समय एक ही आसन पर बैठकर करें। पाठ अगर ब्रह्म मुहूर्त में कर सके तो और भी अच्छा है। 

भैरव बाबा और हनुमान जी का भी मन में ध्यान करके उनके नाम का प्रसाद भी जरूर निकालें। उपाय के तौर पर एक छोटा लाल चंदन का टुकड़ा मां के सामने रखें, जब तक आपके संकल्प लिए हुए पूरे ना हो जाए। जब पूरे हो जाए तो इसे लाल कपड़े में अपने मंदिर में रख दें। इससे किसी कार्य के लिए जाते हैं किसी विवाद के लिए जाते हैं और आपकी सफलता में बढ़ोतरी होगी।

You may also like 👍👍❤️❤️

Hanuman Chalisa Hindi Lyrics, mp3
Shiv Chalisa hindi mein | Lyrics | PDF | mp3
Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics
Bajrang Baan Arth sahit Lyrics in Hindi
श्री Durga chalisa arth sahit सरल शब्दों में
Durga Chalisa Paath Vidhi | दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें
Durga Chalisa Path Karne Ke Fayde Aur Durga Chalisa Path Karne Ke Niyam
Surya Chalisa Lyrics In Hindi
Shri Ganesh Chalisa Lyrics In Hindi
Sampurn Shiv Chalisa arth sahit 
Gayatri Chalisa Lyrics In Hindi

🙏🛕जय माता दी🛕🙏

अपनों से साझा करें

Leave a Comment