{अद्भुत रहस्य}Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics, PDF, Video and Mp3

भगवान शनिदेव को प्रसन्न करने और उनकी आराधना करने के लिए शनि चालीसा और Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics अथवा स्तोत्र बहुत ही उपयोगी माध्यम है। इसलिए आज हम इस पोस्ट में आप को दशरथ कृत शनि चालीसा और स्तोत्र की lyrics उपलब्ध करा रहे हैं।

साथ ही आपको भगवान शनि देव और शनि चालीसा के बारे में विस्तार से जानकारी उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहे हैं। उम्मीद है आप सब को पसंद आएगी।

Shani Chalisa Lyrics in hindi | Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics

!!दोहा!!

जय गणेश गिरिजा सुवन मंगल करण कृपाल !

दीनन के दुख दूर करि कीजै नाथ निहाल!!

जय जय श्री शनिदेव प्रभु सुनहु विनय महाराज !

करहु कृपा हे रवि तनय राखहु जन की लाज!!

!!चौपाई!!

जयति जयति शनिदेव दयाला !

करत सदा भक्तन प्रतिपाला!!

चारि भुजा तनु श्याम विराजै !

माथे रतन मुकुट छबि छाजै!!

परम विशाल मनोहर भाला !

टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला!!

कुण्डल श्रवण चमाचम चमके !

हिय माल मुक्तन मणि दमके!!

कर में गदा त्रिशूल कुठारा !

पल बिच करैं अरिहिं संहारा!!

पिंगल कृष्णो छाया नन्दन !

यम कोणस्थ रौद्र दुखभंजन!!

सौरी मन्द शनी दश नामा !

भानु पुत्र पूजहिं सब कामा!!

जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं !

रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं!!

पर्वतहू तृण होई निहारत !

तृणहू को पर्वत करि डारत!!

राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो !

कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो!!

बनहूँ में मृग कपट दिखाई !

मातु जानकी गई चुराई!!

लखनहिं शक्ति विकल करिडारा !

मचिगा दल में हाहाकारा!!

रावण की गति-मति बौराई !

रामचन्द्र सों बैर बढ़ाई!!

दियो कीट करि कंचन लंका !

बजि बजरंग बीर की डंका!!

नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा !

चित्र मयूर निगलि गै हारा!!

हार नौलखा लाग्यो चोरी !

हाथ पैर डरवायो तोरी!!

भारी दशा निकृष्ट दिखायो !

तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो!!

विनय राग दीपक महं कीन्हयों !

तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों!!

हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी !

आपहुं भरे डोम घर पानी!!

तैसे नल पर दशा सिरानी !

भूंजी-मीन कूद गई पानी!!

श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई !

पारवती को सती कराई!!

तनिक विलोकत ही करि रीसा !

नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा!!

पाण्डव पर भै दशा तुम्हारी !

बची द्रौपदी होति उघारी!!

कौरव के भी गति मति मारयो !

युद्ध महाभारत करि डारयो!!

रवि कहँ मुख महँ धरि तत्काला !

लेकर कूदि परयो पाताला!!

शेष देव-लखि विनती लाई !

रवि को मुख ते दियो छुड़ाई!!

वाहन प्रभु के सात सुजाना !

जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना!!

जम्बुक सिंह आदि नख धारी !

सो फल ज्योतिष कहत पुकारी!!

गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं !

हय ते सुख सम्पति उपजावैं!!

गर्दभ हानि करै बहु काजा !

सिंह सिद्धकर राज समाजा!!

जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै !

मृग दे कष्ट प्राण संहारै!!

जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी !

चोरी आदि होय डर भारी!!

तैसहि चारि चरण यह नामा !

स्वर्ण लौह चाँदी अरु तामा!!

लौह चरण पर जब प्रभु आवैं !

धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं!!

समता ताम्र रजत शुभकारी !

स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल भारी!!

जो यह शनि चरित्र नित गावै !

कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै!!

अद्भुत नाथ दिखावैं लीला !

करैं शत्रु के नशि बलि ढीला!!

जो पण्डित सुयोग्य बुलवाई !

विधिवत शनि ग्रह शांति कराई!!

पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत !

दीप दान दै बहु सुख पावत!!

कहत राम सुन्दर प्रभु दासा !

शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा!!

!!दोहा!!

पाठ शनिश्चर देव को की हों ‘भक्त’ तैयार !

करत पाठ चालीस दिन हो भवसागर पार!!

Dashrath Krit Shani Chalisa

Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics in English 

!!Doha!!

Jay Ganesh Girija Suwan Mangal Karan Kripal!

Deenan Ke Dukh Door Kari Kijai Nath Nihal!!

Jay Jay Shri Shanidev Prabhu Sunahu Vinay Maharaj!

Karahu Kripa He Ravi Tanay Rakhahu Jan Ki Laaj!!

!!Chaupai!!

Jayati Jayati Shanidev Dayala!

Karat Sada Bhaktan Pratipala!!

Char Bhuja Tanu Shyam Virajai!

Mathe Ratan Mukut Chhabi Chhajai!!

Param Vishal Manohar Bhala!

Tedhi Drishti Bhrukuti Vikarala!!

Kundal Shravan Chamacham Chamke!

Hiya Mal Muktan Mani Damke!!

Kar Mein Gada Trishul Kuthara!

Pal Bich Karain Arihim Sanhara!!

Pingal Krishno Chhaya Nandan!

Yam Konasth Raoudra Dukhbhanjan!!

Sauri Mand Shani Dash Nama!

Bhanu Putra Pujahin Sab Kama!!

Ja Par Prabhu Prasann Hwai Jahin!

Rankahun Raav Karain Kshan Mahin!!

Parvatahu Trin Hoi Niharat!

Trinahu Ko Parvat Kari Daraat!!

Raj Milat Ban Ramahin Deenho!

Kaikeihun Ki Mati Hari Leenho!!

Banhun Mein Mrig Kapat Dikhai!

Matu Janaki Gai Churai!!

Lakhanahin Shakti Vikal Karidara!

Machiga Dal Mein Hahakara!!

Ravan Ki Gati-Mati Baurai!

Ramachandra Son Bair Badhai!!

Diyo Kiit Kari Kanchan Lanka!

Baji Bajrang Beer Ki Danka!!

Nrip Vikram Par Tuhi Pagu Dhara!

Chitra Mayur Nigali Gai Haara!!

Haar Naulakha Lagyo Chori!

Haath Pair Darvayo Tori!!

Bhaari Dasha Nikrusht Dikhayo!

Telihin Ghar Kolhu Chalvayo!!

Vinay Raag Deepak Mahan Kinhyon!

Tab prasann prabhu hvai sukh dinhyon!!

Harishchandra nrip nari bikaani!

Apahum bhare dom ghar paani!!

Taise nal par dasha sirani!

Bhoonji-meen kood gayo paani!!

Shri Shankarhin gahyo jab jaai!

Parvati ko Sati karaai!!

Tanik vilokat hi kari reesa!

Nabh udi gayo Gaurisut seesa!!

Pandav par bhai dasha tumhaari!

Bachi Draupadi hoti ughaari!!

Kaurav ke bhi gati mati marayo!

Yuddh Mahabharat kari daaryo!!

Ravi kahan mukh mahan dhari tatkala!

Lekar koodi parayo Paatala!!

Shesh dev-lakhi vinati laai!

Ravi ko mukh te diyo chhudaai!!

Vahan prabhu ke saat sujaana!

Jag diggaj gardabh mrig swaana!!

Jambuk sinh aadi nakh dhaari!

So phal jyotish kaht pukaari!!

Gaj vahan Lakshmi grih aavain!

Hay te sukh sampati upjavaain!!

Gardabh haani karai bahu kaaja!

Sinh siddhakar raaj samaaja!!

Jambuk buddhi nasht kar daarai!

Mrig de kasht praan sanhaarai!!

Jab aavahin prabhu swaan sawaari!

Chori aadi hoy dar bhaari!!

Taisahi chaari charan yeh naama!

Svarn lauh chaandi aru taama!!

Lauh charan par jab prabhu aavain!

Dhan jan sampatti nasht karaavain!!

Samata taamra rajat shubhakaari!

Svarn sarv sarv sukh mangal bhaari!!

Jo yeh Shani charitra nit gaavain!

Kabahoon na dasha nikrusht sataavain!!

Adbhut Nath dikhaavain leela!

Karain shatru ke nashi bali dheela!!

Jo pandit suyogya bulavaai!

Vidhivat Shani grah shaanti karaai!!

Peepal jal Shani divas chadhavat!

Deep daan dai bahu sukh paavat!!

Kahat Ram Sundar Prabhu daasaa!

Shani sumirat sukh hot prakaashaa!!

Doha:

Paath ShaniShchar dev ko ki hon ‘bhakt’ taiyaar!

Karat paath chaalis din ho bhavsaagar paar!!

Dashrath Krit Shani Chalisa

Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics in Gujarati / શનિ ચાલીસા ગુજરાતી

!!દોહા!!

જય ગણેશ ગિરિજા સુવન મંગલ કરણ કૃપાલ !

દીનન કે દુખ દૂર કરિ કીજૈ નાથ નિહાલ!!

જય જય શ્રી શનિદેવ પ્રભુ સુનહુ વિનય મહારાજ !

કરહુ કૃપા હે રવિ તનય રાખહુ જન કી લાજ!!

!!ચૌપાઈ!!

જયતિ જયતિ શનિદેવ દયાલા !

કરત સદા ભક્તન પ્રતિપાલા!!

ચારિ ભુજા તનુ શ્યામ વિરાજૈ !

માથે રતન મુકુટ છબિ છાજૈ!!

પરમ વિશાલ મનોહર ભાલા !

ટેઢી દૃષ્ટિ ભૃકુટિ વિકરાલા!!

કુણ્ડલ શ્રવણ ચમાચમ ચમકે !

હિય માલ મુક્તન મણિ દમકે!!

કર મેં ગદા ત્રિશૂલ કુઠારા !

પલ બિચ કરૈં અરિહિં સંહારા!!

પિંગલ કૃષ્ણો છાયા નન્દન !

યમ કોણસ્થ રૌદ્ર દુખભંજન!!

સૌરી મન્દ શની દશ નામા!

ભાનુ પુત્ર પૂજહિં સબ કામા!

જા પર પ્રભુ પ્રસન્ન હ્વૈં જાહીં!

રંકહુઁ રાવ કરૈં ક્ષણ માહીં!!

પર્વતહૂ તૃણ હોઈ નિહારત!

તૃણહૂ કો પર્વત કરિ ડારત!!

રાજ મિલત બન રામહિં દીન્હયો!

કૈકેઇહુઁ કી મતિ હરિ લીન્હયો!!

બનહૂઁ મેં મૃગ કપટ દિખાઈ!

માતુ જાનકી ગઈ ચુરાઈ!!

લખનહિં શક્તિ વિકલ કરિડારા!

મચિગા દલ મેં હાહાકારા!!

રાવણ કી ગતિ-મતિ બૌરાઈ!

રામચન્દ્ર સોં બૈર બઢાઈ!!

દિયો કીટ કરિ કંચન લંકા !

બજિ બજરંગ બીર કી ડંકા!!

इसे भी पढ़ें   Durga Chalisa Path Karne Ke Fayde Aur Durga Chalisa Path Karne Ke Niyam

નૃપ વિક્રમ પર તુહિ પગુ ધારા !

ચિત્ર મયૂર નિગલિ ગૈ હારા!!

હાર નૌલખા લાગ્યો ચોરી !

હાથ પૈર ડરવાયો તોરી!!

ભારી દશા નિકૃષ્ટ દિખાયો !

તેલિહિં ઘર કોલ્હૂ ચલવાયો!!

વિનય રાગ દીપક મહં કીન્હયોં !

તબ પ્રસન્ન પ્રભુ હ્વૈ સુખ દીન્હયોં!!

હરિશ્ચન્દ્ર નૃપ નારિ બિકાની !

આપહું ભરે ડોમ ઘર પાની!!

તૈસે નલ પર દશા સિરાની !

ભૂંજી-મીન કૂદ ગઈ પાની!!

શ્રી શંકરહિં ગહ્યો જબ જાઈ !

પારવતી કો સતી કરાઈ!!

તનિક વિલોકત હી કરિ રીસા !

નભ ઉડિ ગયો ગૌરિસુત સીસા!!

પાણ્ડવ પર ભૈ દશા તુમ્હારી !

બચી દ્રૌપદી હોતિ ઉઘારી !!

કૌરવ કે ભી ગતિ મતિ મારયો !

યુદ્ધ મહાભારત કરિ ડારયો !!

રવિ કહઁ મુખ મહઁ ધરિ તત્કાલા !

લેકર કૂદિ પરયો પાતાલા !!

શેષ દેવ-લખિ વિનતી લાઈ !

રવિ કો મુખ તે દિયો છુડાઈ !!

વાહન પ્રભુ કે સાત સુજાના !

જગ દિગ્ગજ ગર્દભ મૃગ સ્વાના !!

જમ્બુક સિંહ આદિ નખ ધારી !

સો ફલ જ્યોતિષ કહત પુકારી !!

ગજ વાહન લક્ષ્મી ગૃહ આવૈં !

હય તે સુખ સંપતિ ઉપજાવૈં !!

ગર્દભ હાનિ કરૈ બહુ કાજા !

સિંહ સિદ્ધકર રાજ સમાજા !!

જમ્બુક બુદ્ધિ નષ્ટ કર ડારૈ !

મૃગ દે કષ્ટ પ્રાણ સંહારૈ!!

જબ આવહિં પ્રભુ સ્વાન સવારી !

ચોરી આદિ હોય ડર ભારી!!

તૈસહિ ચારિ ચરણ યહ નામા !

સ્વર્ણ લૌહ ચાંદી અરુ તામા!!

લૌહ ચરણ પર જબ પ્રભુ આવૈં !

ધન જન સમ્પત્તિ નષ્ટ કરાવૈં!!

સમતા તામ્ર રજત શુભકારી !

સ્વર્ણ સર્વ સર્વ સુખ મંગલ ભારી!!

જો યહ શનિ ચરિત્ર નિત ગાવૈ !

કબહું ન દશા નિકૃષ્ટ સતાવૈ!!

અદ્ભુત નાથ દિખાવૈં લીલા !

કરૈં શત્રુ કે નશિ બલિ ઢીલા!!

જો પણ્ડિત સુયોગ્ય બુલવાઈ !

વિધિવત શનિ ગ્રહ શાંતિ કરાઈ!!

પીપલ જલ શનિ દિવસ ચઢાવત !

દીપ દાન દૈ બહુ સુખ પાવત!!

કહત રામ સુન્દર પ્રભુ દાસા !

શનિ સુમિરત સુખ હોત પ્રકાશા!!

!!દોહા!!

પાઠ શનિશ્ચર દેવ કો કી હોં ‘ભક્ત’ તૈયાર !

કરત પાઠ ચાલીસ દિન હો ભવસાગર પાર!!

Dashrath Krit Shani stotra lyrics

दशरथकृत शनि चालीसा / स्तोत्र

नम: कृष्णाय नीलाय शितिकण्ठनिभाय च !

नम: कालाग्निरूपाय कृतान्ताय च वै नम: !!

नमो निर्मांस देहाय दीर्घश्मश्रुजटाय च !

नमो विशालनेत्राय शुष्कोदर भयाकृते !!

नम: पुष्कलगात्राय स्थूलरोम्णेऽथ वै नम: !

नमो दीर्घायशुष्काय कालदष्ट्र नमोऽस्तुते !!

नमस्ते कोटराक्षाय दुर्निरीक्ष्याय वै नम: !

नमो घोराय रौद्राय भीषणाय कपालिने !!

नमस्ते सर्वभक्षाय वलीमुखायनमोऽस्तुते !

सूर्यपुत्र नमस्तेऽस्तु भास्करे भयदाय च !!

अधोदृष्टे: नमस्तेऽस्तु संवर्तक नमोऽस्तुते !

नमो मन्दगते तुभ्यं निरिस्त्रणाय नमोऽस्तुते !!

तपसा दग्धदेहाय नित्यं योगरताय च !

नमो नित्यं क्षुधार्ताय अतृप्ताय च वै नम: !!

ज्ञानचक्षुर्नमस्तेऽस्तु कश्यपात्मज सूनवे !

तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात् !!

देवासुरमनुष्याश्च सिद्घविद्याधरोरगा: !

त्वया विलोकिता: सर्वे नाशंयान्ति समूलत: !!

प्रसाद कुरु मे देव वाराहोऽहमुपागत !

एवं स्तुतस्तद सौरिग्र्रहराजो महाबल !!

Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics Video

Credit- Bhakti Bhajan Sagar

Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics Mp3

शनि चालीसा एक लोकप्रिय चालीसा है जो भगवान शनि को समर्पित है। भगवान शनि को किसी की जन्म कुंडली में शनि ग्रह की स्थिति के आधार पर उस व्यक्ति के जीवन पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव पैदा करने की क्षमता के लिए जाना जाता है। 

माना जाता है कि शनि चालीसा का पाठ करने से शनि के हानिकारक प्रभाव से सुरक्षा मिलती है और जीवन में समृद्धि और सफलता का मार्ग प्रशस्त होता है।

इस ब्लॉग पोस्ट में हम शनि देव की कथा, शनि चालीसा की संरचना, इसका पाठ करने के लाभ और इसे पाठ करने की प्रक्रिया के बारे में चर्चा करेंगे।

Story of Lord Shani । भगवान शनि की कहानी:

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, भगवान शनि भगवान सूर्य और उनकी पत्नी छाया के पुत्र हैं। उनका जन्म भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए माता छाया की तपस्या के परिणामस्वरूप हुआ था और इसके परिणामस्वरूप, भगवान शनि को असाधारण शक्तियों का आशीर्वाद मिला था जो लोगों के जीवन को प्रभावित कर सकते थे।

हालाँकि, भगवान शनि की माँ, छाया, उनकी तीव्र ऊर्जा और सुंदरता को सहन करने में सक्षम नहीं थीं, और  जिसके परिणामस्वरूप, उन्हें एक नकारात्मक ग्रह होने का श्राप दे दिया जो उनके प्रभाव में आने वाले लोगों के जीवन में कष्ट ला सकता था। 

इसी श्राप के परिणामस्वरूप, भगवान शनि कर्म के देवता के रूप में जाने जाते हैं और अनुशासन, कड़ी मेहनत और न्याय से जोड़े हैं।

What is the importance of “Shani Chalisa” in Hinduism । हिंदू धर्म में “शनि चालीसा” का क्या महत्व है:

भगवान शनि को एक शक्तिशाली देवता माना जाता है जो मनुष्य को उनके कर्मों के आधार पर न्याय देने और अनुशासित रखने के लिए उत्तरदायी हैं। 

माना जाता है कि शनि चालीसा का पाठ बाधाओं और नकारात्मक ऊर्जाओं को दूर करता है और किसी की कुंडली में शनि के दोष के प्रतिकूल प्रभावों को कम करता है।

शनि चालीसा एक चालीस-श्लोकों वाली एक प्रार्थना है, जो अवधी भाषा में लिखी गई है और इसमें 40 छंद शामिल हैं जो भगवान शनि के गुणों और विशेषताओं का वर्णन करते हैं। 

ऐसा कहा जाता है कि इस स्तोत्र के पाठ से भगवान शनि प्रसन्न होते हैं, और जो लोग भक्तिभावना के साथ इसका पाठ करते हैं, उन्हें उनकी कृपा प्राप्त होती है।

हिंदू धर्म में शनि चालीसा का महत्व स्वयं शनि देव के महत्व में निहित है। भगवान शनि को एक सख्त अनुशासक माना जाता है जो व्यक्तियों को उनके कार्यों के अनुसार न्याय प्रदान करते हैं, और कुंडली में ग्रह के रूप में उनकी स्थिति किसी के जीवन में चुनौतियां और बाधाऐं उत्पन्न कर सकती है। 

हालाँकि, शनि चालीसा के पाठ के माध्यम से उनकी कृपा का आह्वान करके, शनि दोष के नकारात्मक प्रभावों को कम किया जा सकता है और सुखी और समृद्ध जीवन के लिए उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है।

इसके अलावा, माना जाता है कि शनि चालीसा का पाठ किसी के मानसिक और भावनात्मक कल्याण पर सकारात्मक प्रभाव डालता है। 

ऐसा कहा जाता है कि भक्ति के साथ इस स्तोत्र का पाठ करने से व्यक्ति आंतरिक शक्ति, साहस और चुनौतियों का सामना करने और जीवन में बाधाओं को दूर करने के लिए सद्गुण विकसित कर सकता है। 

इसके अतिरिक्त, यह माना जाता है कि यह बुरी शक्तियों और नकारात्मक ऊर्जाओं से सुरक्षा प्रदान करता है, जिससे किसी भी मनुष्य के जीवन में शांति और समृद्धि आती है।

What is the origin of "Shani Chalisa"

What is the origin of “Shani Chalisa” । “शनि चालीसा” की उत्पत्ति 

शनि चालीसा की उत्पत्ति का पता भारत के मध्यकाल से चलता है जब हिंदू धर्म में नौ ग्रहों को महत्वपूर्ण स्थान मिला हुआ था। 

माना जाता है कि भगवान शनि सहित नौ ग्रह किसी भी मनुष्य के जीवन और भाग्य को प्रभावित कर सकते हैं, और कुंडली में उनकी अनुकूल या प्रतिकूल स्थिति किसी की भलाई, समृद्धि और सफलता को प्रभावित कर सकती है।

नवग्रहों को समर्पित भक्ति भजनों और प्रार्थनाओं का पाठ हिंदू पूजा का एक अभिन्न अंग है, और शनि चालीसा सहित कई भजनों की रचना उनके आशीर्वाद और सुरक्षा के आह्वान के लिए की गई है। 

शनि चालीसा के लेखक कौन है ये निश्चित रूप से पता नही है, लेकिन ऐसा माना जाता है कि इसकी रचना अवधी भाषा के किसी गुमनाम कवि ने की थी।

अवधी भाषा हिंदी की एक बोली है जो वर्तमान उत्तर प्रदेश, के अवध क्षेत्र में विकसित हुई थी। यह मध्ययुगीन काल में व्यापक रूप से बोली जाती थी और मुगल सम्राट अकबर सहित कई हिंदू राजाओं और सम्राटों की दरबारी भाषा भी थी।

इसे भी पढ़ें   Gayatri Chalisa Lyrics In Hindi

शनि चालीसा भारत में नवग्रह पंथ के प्रसार के साथ बढ़ती गई। आज यह व्यापक रूप से भगवान शनि के भक्तों द्वारा पढ़ी जाती है, विशेष रूप से शनि जयंती के शुभ अवसर के दौरान, जो भगवान शनि का जन्म दिवस है। 

शनि जयंती ज्येष्ठ (मई-जून) महीने में अमावस्या (अमावस्या) के दिन आती है, और भक्त उपवास करते हैं और भगवान शनि का आशीर्वाद लेने के लिए विशेष प्रार्थना और अनुष्ठान करते हैं।

Who wrote "Shani Chalisa"

Who wrote “Shani Chalisa” । “शनि चालीसा” किसने लिखा है:

शनि चालीसा, भगवान शनि को समर्पित एक भक्तिमय स्तोत्र, । ऐसा माना जाता है कि इसकी रचना अवधी भाषा में एक अज्ञात कवि द्वारा की गई थी, जो हिंदी की एक बोली है, जिसका उत्पत्ति वर्तमान उत्तर प्रदेश के अवध क्षेत्र में हुआ था।

शनि चालीसा में चालीस छंद हैं, जिनमें से प्रत्येक में भगवान शनि के गुणों और विशेषताओं, उनकी शक्ति और उनके उदार स्वभाव का वर्णन है। यह भजन भगवान शनि की न्याय करने की उनकी क्षमता, कर्तव्य की उनकी अमोघ भावना और धार्मिकता के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता की प्रशंसा करता है। 

यह जीवन में बाधाओं और चुनौतियों को दूर करने के लिए उनकी दिव्य कृपा का आह्वान करते हुए उनका आशीर्वाद और सुरक्षा की कामना करता है।

इसके रचयिता का पता न होने के बावजूद भी शनि चालीसा हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण भक्ति स्तोत्र बन गया है, और इसका पाठ भगवान शनि के भक्तों द्वारा उनका आशीर्वाद और सुरक्षा पाने के लिए व्यापक रूप से किया जाता है। 

माना जाता है कि इस भजन में किसी की कुंडली में शनि के दोष के प्रतिकूल प्रभावों को कम करने और मानसिक और भावनात्मक कल्याण को बढ़ावा देने की शक्ति निहित है।

What are the different names of Lord Shani mentioned in “Shani Chalisa”: । “शनि चालीसा” में वर्णित भगवान शनि के विभिन्न नाम क्या हैं:

शनि चालीसा में भगवान शनि को अलग-अलग नामों और विशेषणों से संबोधित किया गया है, जिनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:

शनि देव: भगवान शनि को अक्सर शनि देव के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है “शनि देवता।” यह नाम शनि ग्रह के साथ जुड़ाव और किसी के भाग्य और कल्याण को प्रभावित करने की उनकी शक्ति को दर्शाता है।

शनेश्वर: भगवान शनि को शनेश्वर के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है “शनि का स्वामी।” यह नाम शनि ग्रह पर उनके सर्वोच्च अधिकार और किसी के जीवन पर इसके प्रभावों को नियंत्रित करने की उनकी क्षमता को दर्शाता है।

शनैश्चरा: भगवान शनि को शनैश्चरा कहा जाता है, जिसका अर्थ है “धीमी गति से चलने वाला।” यह नाम राशि चक्र में शनि ग्रह की धीमी और स्थिर गति और लंबी अवधि में किसी के जीवन पर इसके प्रभाव को दर्शाता है।

मंडपपति: भगवान शनि को मंडपपति के रूप में भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है “शुभ समय का स्वामी।” यह नाम किसी के जीवन में शुभ और अशुभ अवधियों को निर्धारित करने की उनकी शक्ति और न्याय और निष्पक्षता प्रदान करने की उनकी क्षमता को दर्शाता है।

छायापुत्र: भगवान शनि को छायापुत्र कहा जाता है, जिसका अर्थ है “छाया का पुत्र।”

क्रुरद्रिष्ट: भगवान शनि को क्रुरद्रिष्ट के नाम से भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है “क्रूर दृष्टि वाला।” यह नाम भगवान शनि के कठोर और सख्त स्वभाव और धार्मिकता के मार्ग से भटकने वालों को दंडित करने की उनकी क्षमता को दर्शाता है।

पंगु: भगवान शनि को पंगु भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है “एक लंगड़ा पैर वाला।” यह नाम इस विश्वास को दर्शाता है कि भगवान शनि को बचपन में एक चोट लगी थी, जिसने उन्हें लंगड़ा बना दिया था, लेकिन उन्हें विशेष शक्तियों से भी सराहा था।

What is the best time to recite “Shani Chalisa”: । “शनि चालीसा” का पाठ करने का सबसे अच्छा समय क्या है:

हिंदू धर्म में भक्तिपूर्ण भजनों और प्रार्थनाओं का पाठ अक्सर दिन के विशिष्ट समय या कुछ अवसरों पर होता है। शनि चालीसा का पाठ, भगवान शनि को समर्पित एक भक्तिपूर्ण स्तोत्र, इसका कोई अपवाद नहीं है, और इसका पाठ करने के सर्वोत्तम समय के बारे में अलग-अलग विचार हैं।

कुछ परंपराओं के अनुसार शनि चालीसा का पाठ करने का सबसे शुभ मुहूर्त शनिवार को होता है, जिसे शनि देव का दिन माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि शनिवार के दिन शनि चालीसा का पाठ करने से शनि देव प्रसन्न होते हैं और किसी की कुंडली में उसके दोष के प्रतिकूल प्रभावों को कम करते है। 

कुछ भक्त शनिवार का व्रत भी रखते हैं और पूजा के रूप में काले तिल, सरसों का तेल या काला कपड़ा भगवान शनि को अर्पित करते हैं।

हालाँकि, शनि चालीसा का पाठ करने के समय के बारे में कोई निश्चित नियम नहीं हैं, और इसका पाठ दिन में किसी भी समय या किसी भी अवसर पर किया जा सकता है। कुछ भक्त सुबह जल्दी इसका पाठ करना पसंद करते हैं, जबकि अन्य इसे शाम को या बिस्तर पर जाने से पहले पढ़ना पसंद करते हैं। 

ऐसा माना जाता है कि शुद्ध मन से शनि चालीसा का पाठ करने से शनि देव की कृपा और सुरक्षा प्राप्त होती है।

What is the method of reciting “Shani Chalisa”: । “शनि चालीसा” का पाठ करने की विधि क्या है :

माना जाता है कि शनि चालीसा का पाठ भगवान शनि से आशीर्वाद और सुरक्षा दिलाता है और किसी की कुंडली में उनके दोष के प्रतिकूल प्रभावों को कम करता है। शनि चालीसा का पाठ करने की सामान्य प्रक्रिया इस प्रकार है:

तैयारी : शनि चालीसा का पाठ शुरू करने से पहले खुद को मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार करना जरूरी है। व्यक्ति को स्नान करना चाहिए, स्वच्छ और आरामदायक कपड़े पहनना चाहिए, और बैठने और पाठ करने के लिए एक शांतिपूर्ण जगह ढूंढनी चाहिए।

प्रसाद: शनि चालीसा का पाठ शुरू करने से पहले भगवान शनि को कुछ फल, फूल या अन्य मिठाई चढ़ाना आम बात है। कुछ भक्त पूजा के रूप में काले तिल, सरसों का तेल या काला कपड़ा भी चढ़ाते हैं।

आह्वान: शनि चालीसा का पाठ आमतौर पर भगवान गणेश, बाधाओं के निवारण, और भगवान हनुमान, शक्ति और भक्ति के अवतार के साथ शुरू होता है। इसके बाद उनका आशीर्वाद और सुरक्षा पाने के लिए कुछ मंत्रों का जाप किया जाता है।

पाठ: एक बार आह्वान हो जाने के बाद, व्यक्ति शनि चालीसा का पाठ शुरू कर सकता है। भजन में चालीस छंद होते हैं, जिनमें से प्रत्येक में भगवान शनि के गुणों और विशेषताओं और उनके भक्तों को आशीर्वाद देने और उनकी रक्षा करने की शक्ति का वर्णन है।

निष्कर्ष: एक बार शनि चालीसा का पाठ पूरा हो जाने के बाद, व्यक्ति भगवान शनि को कृतज्ञता के रूप में कुछ पानी या दूध अर्पित कर सकता है और उनका आशीर्वाद ले सकता है। कुछ भक्त दीपक जलाना भी पसंद करते हैं और पूजा के रूप में कुछ धूप चढ़ाते हैं।

What is the role of Lord Shani in one’s life: । किसी के जीवन में भगवान शनि की क्या भूमिका है:

भगवान शनि को अक्सर एक शक्तिशाली देवता के रूप में दिखाया जाता है जो किसी के जीवन में शांति और चुनौतियां दोनों ला सकते हैं। यहां किसी के जीवन में भगवान शनि की कुछ भूमिकाएं भूमिकाएं दी गई हैं:

इसे भी पढ़ें   Durga Chalisa Paath Vidhi | दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें

न्याय: भगवान शनि को न्याय का देवता माना जाता है और माना जाता है कि यह किसी के कार्यों के परिणाम प्रदान करते हैं। वह अक्सर कर्म के नियम से जुड़ा होता है, जिसमें कहा गया है कि हर कर्म का एक फल होता है, और व्यक्ति को अपने कर्मों का फल अवश्य भोगना चाहिए।

अनुशासन: भगवान शनि भी अनुशासन और कड़ी मेहनत से के देवता माने जाते हैं। यह माना जाता है कि वह किसी के जीवन में जो चुनौतियाँ और बाधाएँ लाते है, वे अनुशासन, दृढ़ता और कड़ी मेहनत सिखाने के लिए होती हैं, जो किसी को सफलता और विकास प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं।

संरक्षण: एक सख्त और कठोर देवता के रूप में अपनी प्रतिष्ठा के बावजूद, भगवान शनि को अपने भक्तों का रक्षक भी माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान शनि की सच्ची और समर्पित पूजा किसी के जीवन में आशीर्वाद, सुरक्षा और सौभाग्य ला सकती है।

शनि गति: किसी की कुंडली में भगवान शनि का गोचर या चाल एक महत्वपूर्ण ज्योतिषीय घटना मानी जाती है जो किसी के जीवन पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव डाल सकती है। ऐसा माना जाता है कि भगवान शनि के गोचर के प्रतिकूल प्रभावों को भगवान शनि की सच्ची और समर्पित पूजा के माध्यम से कम किया जा सकता है।

आत्म-जागरूकता: भगवान शनि आत्म-जागरूकता और आत्म-प्रतिबिंब से भी जुड़े हुए हैं। यह माना जाता है कि वे आपके जीवन में जो चुनौतियाँ और बाधाएँ लाते हैं, वे आपकी खामियों, गलतियों और कमियों के बारे में अधिक जागरूक होने में आपकी मदद कर सकते हैं और आप आत्म-सुधार और विकास की दिशा में काम कर सकते हैं।

Structure of Shani Chalisa: । शनि चालीसा की संरचना:

शनि चालीसा में भगवान शनि की स्तुति में 40 छंद हैं, और प्रत्येक छंद का एक महत्वपूर्ण अर्थ और उद्देश्य है। प्रार्थना निम्नलिखित दोहा से शुरू होती है:

“जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल ।

दीनन के दुःख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ॥

जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज ।

करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज ॥”

यह दोहा भगवान शनि का आह्वान करता है, उनका आशीर्वाद और सुरक्षा मांग रहा है। फिर प्रार्थना में भगवान शनि के गुणों का वर्णन होता है, जैसे बाधाओं को दूर करने की उनकी क्षमता, उनका न्याय, और उनकी धार्मिकता के मार्ग पर चलने वालों के लिए समृद्धि और खुशी लाने की उनकी क्षमता आदि का।

Benefits of reciting Shani Chalisa: । शनि चालीसा का पाठ करने के लाभ:

शनि चालीसा का पाठ करने से कई लाभ होते हैं, जिनमें से कुछ निम्नवत हैं:

शनि के अशुभ प्रभाव से सुरक्षा: भगवान शनि के प्रभाव से व्यक्ति के जीवन में कष्ट और बाधा उत्पन्न हो सकती है। माना जाता है कि शनि चालीसा का पाठ करने से शनि के नकारात्मक प्रभाव को कम करने और शांति और स्थिरता लाने में मदद मिलती है।

जीवन में बाधाओं को दूर करना: माना जाता है कि शनि चालीसा जीवन में किसी भी व्यक्ति की प्रगति के रास्ते में आने वाली बाधाओं और चुनौतियों को दूर करने की छमता होती है।

वित्तीय स्थिरता और कैरियर के विकास में सुधार: भगवान शनि को किसी व्यक्ति की वित्तीय स्थिरता और करियर के विकास पर महत्वपूर्ण प्रभाव के लिए जाना जाता है। शनि चालीसा का पाठ इंसान के जीवन के इन पहलुओं को बेहतर बनाने में मदद करता है।

Method of reciting Shani Chalisa: । शनि चालीसा का पाठ करने की विधि:

शनि चालीसा का पाठ करने के लिए इन चरणों का पालन करना चाहिए:

  • एक शांतिपूर्ण स्थान खोजें जहाँ आप बिना किसी रुकावट के प्रार्थना पर ध्यान केंद्रित कर सकें।
  • पूजा शुरू करने से पहले एक दीया और अगरबत्ती जलाएं।
  • एक आरामदायक स्थिति में बैठें और भक्ति और सकारात्मक मानसिकता के साथ प्रार्थना करें।
  • सुबह स्नान करने और साफ कपड़े पहनने के बाद प्रार्थना करने की सलाह सर्वोत्तम है।

इसे भी पढ़े Hanuman Chalisa Hindi Lyrics

conclusion:। निष्कर्ष:

शनि चालीसा एक शक्तिशाली प्रार्थना है जो भक्ति और विश्वास के साथ इसका पाठ करने वालों के लिए सुरक्षा, समृद्धि और खुशी लाती है। 

शनिदेव की कथा, शनि चालीसा की संरचना और इसका पाठ करने के लाभों को समझकर, व्यक्ति प्रार्थना को अपनी दिनचर्या में शामिल कर सकते हैं और भगवान शनि का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि शनि चालीसा का पाठ करते समय सकारात्मक और केंद्रित मानसिकता बनाए रखनी चाहिए और भक्ति और विश्वास के साथ प्रार्थना का पाठ करना चाहिए। 

इसके अतिरिक्त, आपकी जन्म कुंडली में शनि की स्थिति और विशिष्ट अनुष्ठानों या प्रथाओं को समझने के लिए एक ज्योतिषी या आध्यात्मिक गुरु से परामर्श करने की सलाह दी जाती है जो आपके लिए फायदेमंद हो सकते हैं।

अंत में, शनि चालीसा का पाठ कर्म के देवता शनि की कृपा और सुरक्षा पाने का एक शक्तिशाली तरीका है। 

इस प्रार्थना को अपनी दिनचर्या में शामिल करके हम जीवन की चुनौतियों को अनुग्रह और सकारात्मकता के साथ संचालित कर सकते हैं और अपने लिए समृद्धि और सफलता का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं।

उम्मीद है आप को हमारा यह पोस्ट Shani Chalisa | Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics पसंद आया होगा। हमने इस पोस्ट में दी गई सभी जानकारी तथा चालीसा को लिखने में पूरी सावधानी बरती है लेकिन फिर भी यदि कोई त्रुटि हो गई हो तो आप हमें केमेंट सेक्सन में अवगत अवश्य कराएं। हम अविलंब उसे दूर करने की कोशिश करेंगे।

FaQ:

Q.क्या कोई शनि चालीसा का पाठ कर सकता है?

A. हां, कोई भी अपने लिंग, जाति या धर्म की परवाह किए बिना शनि चालीसा का पाठ कर सकता है।

Q.क्या मुझे शनि चालीसा का पाठ करने के लिए एक विशिष्ट मनोदशा की आवश्यकता है?

A. नहीं, शनि चालीसा का पाठ करने के लिए कोई विशेष मनोदशा की आवश्यकता नहीं है। हालाँकि, किसी भी भक्ति का भजन का पाठ करते समय शुद्ध और एकाग्र मन होना हमेशा फायदेमंद होता है।

Q.क्या शनि चालीसा का पाठ किसी भी भाषा में किया जा सकता है?

A. हां, शनि चालीसा का पाठ किसी भी भाषा में किया जा सकता है जो भक्त के लिए सुविधाजनक हो।

Q.क्या शनि चालीसा का पाठ करने का कोई विशेष तरीका है?

A. शनि चालीसा का पाठ करने का कोई विशेष तरीका नहीं है, लेकिन यह सलाह दी जाती है कि शांत और साफ जगह पर बैठकर पाठ करते समय शब्दों पर ध्यान केंद्रित करें।

Q.क्या मैं किसी और के लिए शनि चालीसा का पाठ कर सकता हूँ?

A. हां, आप किसी और की ओर से शनि चालीसा का पाठ कर सकते हैं।

You may also like 👍👍❤️❤️

Hanuman Chalisa Hindi Lyrics, mp3
Shiv Chalisa hindi mein | Lyrics | PDF | mp3
Dashrath Krit Shani Chalisa Lyrics
Bajrang Baan Arth sahit Lyrics in Hindi
श्री Durga chalisa arth sahit सरल शब्दों में
Durga Chalisa Paath Vidhi | दुर्गा चालीसा का पाठ कैसे करें
Durga Chalisa Path Karne Ke Fayde Aur Durga Chalisa Path Karne Ke Niyam
Surya Chalisa Lyrics In Hindi
Shri Ganesh Chalisa Lyrics In Hindi
Sampurn Shiv Chalisa arth sahit 
Gayatri Chalisa Lyrics In Hindi
अपनों से साझा करें

Leave a Comment